Menu

पाकिस्तान से क्रिकेट पर बोले विराट कोहली, हमारा रुख सख्त, हम देश के साथ खड़े हैं

पाकिस्तान से क्रिकेट पर बोले विराट कोहली, हमारा रुख सख्त, हम देश के साथ खड़े हैं
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने शुक्रवार को COA के साथ अपनी बैठक के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) को एक पत्र लिखा है, जिसमें उसने विश्व कप में पाकिस्तान के साथ क्रिकेट नहीं खेलने के मुद्दे पर अपनी बात रखी है. साथ ही BCCI ने भारतीय खिलाड़ियों, अधिकारियों, प्रशंसकों की सुरक्षा सहित आगे की घटनाओं और अपनी चिंताओं व प्रतिबद्धताओं के बारे में ICC को अवगत कराया है. BCCI ने अपने पत्र में साथ ही क्रिकेट समुदाय से उस देश के साथ संबंध तोड़ने का आग्रह किया है, जहां आतंक को पनाह मिलती हो.

BCCI के इस फैसले के बाद टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने बड़ा बयान दिया है. विराट कोहली ने कहा, 'हमारा रुख सख्त है, हम देश के साथ खड़े हैं. हमारा राष्ट्र क्या चाहता है और बीसीसीआई क्या फैसला करता है हम उसके साथ रहेंगे.' वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के साथ क्रिकेट मैच खेलने के मुद्दे पर कप्तान कोहली ने कहा, 'पुलवामा आतंकी हमले में जान गंवाने वाले हमारे CRPF के जवानों के परिवारों के प्रति हमारी संवेदना है. भारत सरकार और बोर्ड जो निर्णय लेंगे हम उसका सम्मान करेंगे.'


विराट कोहली ने कहा, 'पुलवामा में हमारे जवानों के साथ जो हुआ उससे हम स्तब्ध हैं. सरकार और बोर्ड जो भी फैसला करते हैं हम उसके साथ खड़े हैं.' बता दें कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद ओल्ड ट्रैफर्ड में पाकिस्तान के खिलाफ 16 जून को होने वाले विश्व कप मुकाबले का बहिष्कार करने की मांग की जा रही है. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. आईसीसी की बैठक 26 फरवरी से दो मार्च तक आयोजित होगी. आईसीसी को बीसीसीआई ने ईमेल भेजा है, इसमें बीसीसीआई ने कहा कि वह विश्व कप में जा रहे भारतीय खिलाड़ियों की सुरक्षा के बारे में चिंतित है.

इस ईमेल के अनुसार, ‘बीसीसीआई को आगामी आईसीसी प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले खिलाड़ियों और मैच अधिकारियों की सुरक्षा का डर है जिसमें क्रिकेट विश्व कप 2019 शामिल है. आईसीसी के ज्यादातर सदस्यों (जिसमें ब्रिटेन भी शामिल है) ने इस आंतकवादी हमले की निंदा की है और भारत के प्रति एकजुटता दिखायी है.’ बोर्ड ने कहा, ‘बीसीसीआई को भरोसा है कि आईसीसी और ईसीबी खिलाड़ियों, मैच अधिकारियों और भारतीय क्रिकेट के प्रशंसकों को आगामी विश्व कप में कड़ी सुरक्षा प्रदान करेगा.’

पुलवामा आतंकी हमले के बाद देश भर में मांग है कि विराट कोहली की भारतीय टीम या तो पाकिस्तान से वर्ल्ड कप में मैच नहीं खेले या बीसीसीआई के प्रभाव का इस्तेमाल कर पाकिस्तान को विश्व कप टूर्नामेंट से बाहर कर दे. जानकारी के मुताबिक राहुल जौहरी 27 फरवरी को ICC के प्रस्तावित कार्यक्रम में पुलवामा हमले के बाद देश में गुस्से के माहौल का हवाला दे सकते हैं और वह आईसीसी से अपील करेंगे कि पाकिस्तान को क्रिकेट विश्व से बाहर किया जाए.

सचिन बोले- पाकिस्तान से हारना पसंद नहीं

सचिन तेंदुलकर ने शुक्रवार को कहा था कि उन्हें आगामी विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलकर उन्हें दो अंक देना गवारा नहीं है, क्योंकि इससे क्रिकेट महाकुंभ में इस चिर प्रतिद्वंद्वी को ही फायदा होगा. तेंदुलकर ने कहा, ‘भारत ने विश्व कप में हमेशा पाकिस्तान के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया है. अब फिर से उन्हें हराने का समय है. मैं निजी तौर पर उन्हें दो अंक देना पसंद नहीं करूंगा, क्योंकि इससे टूर्नामेंट में उन्हें मदद मिलेगी.

सौरव गांगुली ने कहा- PAK के साथ क्रिकेट बंद करो

पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद की ओर से पुलवामा में 14 फरवरी को की गई आतंकी वारदात में CRPF के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले के बाद भारत के तमाम पूर्व क्रिकेटरों ने पाकिस्तान के साथ क्रिकेट नहीं खेलने की इच्छा जताई है. इसमें हरभजन सिंह से लेकर पूर्व कप्तान सौरव गांगुली, चेतन चौहान, गौतम गंभीर और पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन के नाम शामिल हैं.

सौरव गांगुली ने बुधवार को कहा कि सिर्फ क्रिकेट ही नहीं बल्कि पाकिस्तान के साथ सभी खेलों में संबंध खत्म होने चाहिए. पूर्व कप्तान गांगुली ने टीम इंडिया के अपने पूर्व साथी हरभजन सिंह का समर्थन करते हुए कहा कि विश्व कप के एक मैच में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलने से भारत की संभावनाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

हरभजन सिंह ने कहा- हम पहले भारतीय हैं

गांगुली से पहले गेंदबाज हरभजन सिंह ने 'आजतक' से बातचीत में कहा था कि भारत को विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच नहीं खेलना चाहिए. उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले के बाद माहौल अलग है, हम पहले भारतीय हैं और उसके बाद क्रिकेटर हैं. एक तरफ आपके जवानों पर हमला हो और दूसरी ओर आप उसी मुल्क के साथ क्रिकेट खेलें, यह नहीं हो सकता.

पूर्व क्रिकेटर और यूपी सरकार में मंत्री चेतन चौहान ने कहा कि भारत ICC पर पाकिस्तान क्रिकेट टीम को विश्व कप से बाहर करने का दवाब डाले. उन्होंने कहा कि हम पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय सीरीज पहले ही नहीं खेल रहे हैं, ऐसे में विश्व कप मैच भी नहीं खेलना चाहिए. चौहान ने कहा कि पाकिस्तान में बढ़ता आतंकवाद दुनियाभर के लिए परेशानी का सबब बन गया है.

गावस्कर ने कहा- मुफ्त में मत जीतने दो मैच

पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने कहा कि भारत अगर वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के साथ मैच नहीं खेलता है तो नुकसान उसे ही होगा. गावस्कर ने कहा, 'अगर हम पाकिस्तान से वर्ल्ड कप में मैच नहीं खेलते हैं, तो हम हारे हुए कहलाएंगे और उन्हें 2 अंक दे बैठेंगे. इसलिए सबसे अच्छा तरीका यह होगा कि विश्व कप में अब उनके साथ खेलकर उन्हें हरा दें.

गावस्कर ने कहा, 'BCCI पाकिस्तान को वर्ल्ड कप से बाहर करने की कोशिश कर सकती हैं. लेकिन, ऐसा होगा नहीं. क्योंकि, इसके लिए दूसरे सदस्य देशों की भी स्वीकृति चाहिए होगी.' गावस्कर ने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि अन्य सदस्य देश पाकिस्तान को वर्ल्ड कप से बाहर करने की स्वीकृति देंगे. लेकिन, भारत कोशिश कर सकता है कि पाकिस्तान को विश्व कप खेलने से रोका जाए.'

गावस्कर ने कहा, 'मैं जानता हूं कि पाकिस्तान के साथ मैच नहीं खेलने के बाद भी भारत इतना मजबूत है कि वह अगले दौर के लिए क्वालिफाई कर सकता है. लेकिन, पाकिस्तान को सबसे ज्यादा तकलीफ द्विपक्षीय रूप से कोई सीरीज नहीं खेलने से होगी. वर्ल्ड कप में अगर हम उनके साथ मैच नहीं खेलते हैं तो उन्हें 2 अंक का फायदा ही होगा नुकसान नहीं.

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *