Menu

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान की हरकतों पर मौन क्‍यों हैं सिद्धू?

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान की हरकतों पर मौन क्‍यों हैं सिद्धू?
पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) भारत (India) के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय मंचों (International Forum) पर दुष्प्रचार करने से बाज नहीं आ रहे हैं. इमरान खान लगातार भारत के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय मंचों पर जहर उगल रहे हैं, लेकिन ताज्जुब की बात यह है कि भारत में पहले जो लोग भी इमरान खान (Imran Khan) की नीतियों के हिमायती रहे हैं, उन लोगों की जुबान भी जम्मू-कश्मीर पर अख्तियार किए गए उनके रुख पर खामोश है? पंजाब कांग्रेस के नेता और पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) भी उनमें से एक हैं.

भारत सरकार ने जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में अनुच्छेद 370 ( Article 370) और अनुच्छेद 35ए ( Article 35A) को जब से खत्म किया है, नवजोत सिंह सिद्धू की तरफ से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है. सिद्धू ने न तो पक्ष में और न ही विपक्ष में जम्मू-कश्मीर को लेकर कोई बयान दिया है. ऐसा भी नहीं है कि सिद्धू ने बोलना बंद कर दिया है. आखिर वह कौन सी वजह है जिसकी वजह से सिद्धू बयान देने से बच रहे हैं?

बता दें कि रविवार को एक बार फिर से पाकिस्तानी पीएम ने कश्मीर को लेकर ट्वीट किया है. पाक के पीएम इमरान खान ने ट्वीट कर विश्व के दूसरे देशों से कश्मीर के मसले पर दखल देने की अपील की है. इमरान खान ने ट्वीट कर कहा, 'आरएसएस की निजी विचारधारा के कारण कश्मीर में कर्फ्यू की स्थिति है. कश्मीर के लोगों का उत्पीड़न किया जा रहा है और कश्मीरियों की नरसंहार की स्थिति बन गई है.'

इमरान पर चुप्पी के राज क्या हैं

ऐसे में सवाल ये है कि सिद्धू क्यों नहीं इमरान खान की पूरजोर तरीके से मुखालफत कर रहे हैं? पुलवामा में पिछले साल हए आतंकी हमले के बाद जब भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई थी. भारत और पाकिस्तान के बीच हवाई संघर्ष के बाद पाकिस्तान ने भारतीय वायुसेना के पायलट विंग कमांडर अभिनंदन को पकड़ लिया था. अंतरराष्ट्रीय दबाव के बाद जब इमरान खान ने पाकिस्तानी संसद में अभिनंदन की रिहाई का ऐलान किया था तो सिद्धू ने इमरान खान की दिल खोल कर तारीफ की थी.

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *