Menu

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- पश्चिम बंगाल में कुछ बहुत गंभीर चल रहा है

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- पश्चिम बंगाल में कुछ बहुत गंभीर चल रहा है
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि ऐसा लगता है कि पश्चिम बंगाल में कुछ बहुत ही गंभीर चल रहा है। इसके साथ ही कोर्ट कोलकाता हवाई अड्डे पर तृणमूल नेता की पत्नी के सामान की जांच करने वाले सीमा शुल्क अधिकारियों के कथित उत्पीड़न के मामले की सुनवाई के लिए तैयार हो गया।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने इस टिप्पणी के साथ ही पश्चिम बंगाल सरकार को इस मामले में चार सप्ताह के भीतर जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया। पीठ ने कहा कि किसी ने हमारा ध्यान कुछ बहुत ही गंभीर चीजों की ओर आकर्षित किया है। हमें अभी यह नहीं मालूम कि किसका दावा सही है परंतु हम इस मामले की तह तक पहुंचना चाहते हैं।

सीमा शुल्क विभाग की ओर से सालिसीटर जनरल तुषार मेहता ने पीठ से कहा कि यह मामला 15-16 मार्च की रात की घटना से संबंधित है जब सीमा शुल्क अधिकारियों को अपना काम करने से रोकने के लिए बाधा डाली गई। वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने नोटिस जारी किए जाने पर आपत्ति की और कहा कि याचिका विचार योग्य नहीं है क्योंकि याचिकाकर्ता राजकुमार बर्थवाल केन्द्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड के सदस्य हैं और वह याचिका दायर करने में सक्षम नहीं है। इस पर पीठ ने टिप्पणी की कि उसे याचिकाकर्ता के सक्षम होने के बारे में नहीं मालूम परंतु हम पश्चिम बंगाल में जो कुछ भी चल रहा है उसे नजरअंदाज नहीं कर सकते। यदि जरूरी हुआ तो हम स्वत: ही घटनाओं का संज्ञान लेकर इसकी तह तक जाएंगे।

यह है मामला

तुषार ने कहा कि अधिकारियों के काम में उस समय बाधा डाली गई जब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी की पत्नी रूजिरा नरूला बनर्जी सहित दो महिलाओं को जांच के लिए हवाई अड्डे पर रोका गया। इस दौरान सीमा शुल्क अधिकारियों ने उनके सामान की जांच की थी। इस पर उन्होंने प्रतिवाद किया।

साथ ही वहां मौजूद अधिकारियों को अपशब्द कहे। मेहता ने कहा कि हवाई अड्डे से महिलाओं के जाने के तुरंत बाद ही पुलिसकर्मियों का एक बड़ा दल परिसर में आया और उसने इन महिलाओं के सामान की जांच करने के कारण सीमा शुल्क अधिकारियों को गिरफ्तार करने का प्रयास किया। केन्द्र ने यह भी आरोप लगाया था कि पश्चिम बंगाल में संस्थागत अव्यवस्था और पूरी तरह से अराजकता की स्थिति है।  

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *