Menu

PM मोदी ने काशी की दो बेटियों को दिलाई भारत की नागरिकता, 24 साल से दर-दर भटक रहा था परिवार

PM मोदी ने काशी की दो बेटियों को दिलाई भारत की नागरिकता, 24 साल से दर-दर भटक रहा था परिवार
लोकतंत्र के महापर्व में पाकिस्तान में जन्मी दो बेटियां निदा व माहेरूख पहली बार शामिल होंगी. चुनाव से ठीक पहले जब उन्हें भारत की नागरिकता मिली तो पूरे परिवार में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी. अब उनका नाम वोटर लिस्ट में जुड़ गया है. पाकिस्तान की नागरिकता रखने वाले बेटियाँ करीब 24 साल से भारत की नागरिकता पाने के लिए संघर्ष कर रहीं थी, आज इसका श्रेय ये अपने सांसद और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दे रहीं हैं.

पाकिस्तान में जन्मी काशी की दो बेटियों के पिता या पानदरीबा निवासी नसीम टॉफी बिस्कुट के कारोबारी हैं. 20 नवम्बर 1989 को उनकी शादी कराची की रहने वाली शाहीन से हुई. शादी के तीन साल बाद कराची में 24 अप्रैल 1992 को शाहीन ने बेटी निदा को जन्म दिया. इसके बाद दूसरी बेटी माहेरूख का जन्म जनवरी 1995 में हुआ था.

दोनों बहनें 1995 में मां-बाप के साथ वाराणसी आईं. माता शाहीन को 2007 में ही भारत की नागरिकता मिल गई. वहीं, दोनों बेटियों को भारत की नागरिकता दिलाने के लिए परिवार लखनऊ, दिल्ली का चक्कर लगता रहा. निदा ने बताया कि नागरिकता में पाकिस्तानी लिखना काफी तकलीफदेह लगता था और इसी अब उन्हें जल्द ही पासपोर्ट भी मिल जाएगा.

जब प्रधानमंत्री 2014 में वाराणसी से सांसद बने और रविंद्रपुरी में संसदीय कार्यालय खुला तो दोनों बहनों ने वहां गुहार लगाई और कार्यालय के कार्यकर्ताओं के सहयोग से आज इन दोनों बहनों को भारत का नागरिक होने का गौरव प्राप्त हुआ है. इसी साल 23 मार्च को दोनों बहनों को भारत की नागरिकता मिल गई. आज ये दोनों बहनें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद कर रही हैं.

निदा काशी विद्यापीठ से इंग्लिश से एमए कर चुकी है और बीएड कर रही है. वहीं, छोटी बेटी माहेरुख बीएचयू से एमकॉम फाइनल कर रही है. मां शाहीन ने कहा कि, अल्लाह का शुक्र है और पीएम मोदी को दिल से शुक्रिया है. पिछली सरकारों में हमें किसी की ओर से सहयोग नहीं मिला है. वो तो हमें दौड़ाते रहे. पीएम मोदी के संसदीय जनसंपर्क कार्यालय ने फाइल पूरी करने में मदद कर बात ऊपर तक पहुंचाई, उनकी टीम ने हमे लोकतंत्र की खुशियां लौटाई हैं.

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *