Menu

कोलंबो एयरपोर्ट के पास फिर देशी बम मिलने से सनसनी, 8 धमाकों में अब तक 6 भारतीयों समेत 290 की मौत

कोलंबो एयरपोर्ट के पास फिर देशी बम मिलने से सनसनी, 8 धमाकों में अब तक 6 भारतीयों समेत 290 की मौत
श्रीलंका में ईस्‍टर के दिन हुए 8 बम धमाकों के बाद लगता है कि खतरा अभी टला नहीं है। आज सुबह कोलंबो एयरपोर्ट के पास देशी बम बरामद हुआ है। लेकिन समय लगते सुरक्षा बलों ने इसे डिफ्यूज़ किया है। इस बीच स्‍थानीय पुलिस ने विस्‍फोट से जुड़े मामले में 13 लोगों को गिरफ्तार किया है। दूसरी ओर बम धमाकों को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। इन हमलों में आत्‍मघाती साजिश की बात सामने आई है। हमले की जांच में पता लगा है कि सिनामो ग्रैंड होटल के रेस्टोरेंट में एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोट कर खुद को उड़ा दिया। रविवार को इस होटल समेत 8 जगहों पर सिलसिलेवार बम धमाके हुए थे, जिसमें 290 लोगों की मौत की खबर है। वहीं 500 से ज्यादा लोग घायल हैं। इन धमाकों में 6 भारतीय नागरिकों समेत 35 विदेशी नागरिक भी मारे गए हैं।

देशी बम किया निष्‍क्रिय

पुलिस के एक सूत्र ने ‘एएफपी’ को बताया कि देशी पाइप बम रविवार देर रात मुख्य टर्मिनल की ओर जाने वाली सड़क से बरामद किया गया था। ईस्टर पर सिलसिलेवार बम धमाकों के बाद भारी सुरक्षा के साथ यह मार्ग खुला था। सूत्र ने कहा, ‘‘ वह एक देशी बम था, जिसमें विस्फोटक पाइप में भरे थे।’’ वायुसेना के प्रवक्ता ग्रुप कैप्टन गिहान सेनेपविरत्ने ने बताया कि ऐसा प्रतीत होता है कि आईडी स्थानीय स्तर पर बनाया गया था। वायुसेना के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ यह छह फुट लंबा एक देशी पाइप बम था, जो सड़क के किनारे बरामद हुआ।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हमने उसे हटाकर सफलतापूर्वक निष्क्रिय कर दिया।’’

आत्‍मघाती साजिश का खुलासा

हमले की जांच में पता लगा है कि सिनामो ग्रैंड होटल के रेस्टोरेंट में एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोट कर खुद को उड़ा दिया। जांच में पता चला है कि विस्‍फोट करने से पहले वो एक रात पहले ही होटल के एक कमरे में आकर ठहरा था और धमाके वाली सुबह वो नाश्ते के लिए लाइन में सबसे आगे आकर खड़ा हो गया। फिर बम ब्लास्ट कर दिया। फिलहाल संदेह के आधार पर तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हालांकि सिलसिलेवार हमले की ज़िम्मेदारी अबतक किसी संगठन ने नहीं ली है।

विस्फोट मामले में 13 गिरफ्तार

श्रीलंकाई पुलिस ने रविवार को गिरजाघरों तथा होटलों में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोटों के मामले में 13 लोगों को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। गिरफ्तार किए लोगों से जुड़ी कोई जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई है। इस बीच, पुलिस ने ‘एएफपी’ को बताया कि इन 13 लोगों को कोलंबो और उसके आसपास दो स्थानों से गिरफ्तार किया गया है

10 साल की शांति हुई भंग

इन धमाकों के साथ ही लिट्टे के साथ खूनी संघर्ष के खत्म होने के बाद करीब एक दशक से जारी शांति भी भंग हो गई। पुलिस प्रवक्ता रूवन गुनासेकरा ने बताया कि द्वीपीय राष्ट्र में हुए सबसे खतरनाक हमलों में से एक, ये विस्फोट स्थानीय समयानुसार पौने नौ बजे ईस्टर प्रार्थना सभा के दौरान कोलंबो के सेंट एंथनी चर्च, पश्चिमी तटीय शहर नेगोम्बो के सेंट सेबेस्टियन चर्च और बट्टिकलोवा के एक चर्च में हुए। वहीं अन्य तीन विस्फोट पांच सितारा होटलों - शंगरीला, द सिनामोन ग्रांड और द किंग्सबरी में हुए। 

6 भारतीयों ने गंवाई जान

विदेश मंत्री ने ट्वीट कर बताया कि कोलंबो स्थित भारतीय उच्चायोग ने 6 भारतीयों की मौत की जानकारी दी है। मृतकों के नाम लक्ष्मी, नारायण चंद्रशेखर, रमेश, पी एस रसायिना, के. जी हनुमंतरायप्पा और एम रंगयप्पा हैं। तीनों मृतकों के बारे में अभी और अधिक जानकारी जुटाई जा रही है।

35 विदेशी नागरिकों की मौत

विदेश सचिव रविनाथा अरियासिंघे ने कहा कि धमाकों में कम से कम 35 विदेशी मारे गए हैं। कोलंबो में चीनी दूतावास ने कहा कि धमाकों में कम से कम दो चीनी नागरिकों की मौत हुई है। दूतावास घायल चीनी नागरिकों की संख्या की पुष्टि करने की कोशिश कर रहा है। इससे पूर्व दूतावास ने कहा था कि चार चीनी नागरिक धमाकों में घायल हुए हैं। स्थानीय मीडिया की खबर के मुताबिक धमाकों में घायल हुए लोगों में भारत, पाकिस्तान, अमेरिका, मोरक्को और बांग्लादेश के नागरिक भी बताए जा रहे हैं। 


भारतीय दूतावास ने जारी किए ये नंबर

भारतीय नागरिक किसी भी तरह की सहायता, मदद और स्पष्टीकरण के लिए इन नंबरों पर फोन कर सकते हैं- +94777903082, +94112422788, +94112422789 ।’’ उच्चायुक्त ने अन्य एक ट्वीट में लिखा, ‘‘ दिए गए नंबरों के अलावा भारतीय नागरिक किसी भी सहायता व मदद और अन्य किसी स्पष्टीकरण के लिए +94777902082, +94772234176 नंबरों पर फोनकर सकते हैं।’’

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *