Menu

बीजेपी प्रवक्ता तेजिंदर बग्गा ने लगवाए साध्वी प्रज्ञा के पोस्टर, लिखा- अब होगा न्याय

बीजेपी प्रवक्ता तेजिंदर बग्गा ने लगवाए साध्वी प्रज्ञा के पोस्टर, लिखा- अब होगा न्याय
दिल्ली बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने मालेगांव ब्लास्ट की तथाकथित आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के पोस्टर लगवाए हैं। दिल्ली में लगे हुए इन पोस्टरों में प्रज्ञा ठाकुर को अस्पताल इलाज कराने जाते हुए दिखाया गया है और साथ में लिखा है ‘अब होगा न्याय’।

भोपाल से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बीजेपी प्रत्याशी बनाए जाने के बाद गर्म सियासत शुरू हो गई है। एक तरफ जहां बीजेपी अब हिंदुत्व के एजेंडे को भुनाने में जुट गई है, तो दूसरी तरफ कांग्रेस समर्पित तमाम क्षेत्रों के बुध्दिजीवी उन्हें ‘हिंदू आतंकवादी’ सिध्द करने में जी-जान से लग गये हैं। दिल्ली बीजेपी प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने दिल्ली बीजेपी दफ्तर के बाहर एक पोस्टर लगाया है, जिसमे साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को बिस्तर पर बीमार हालात में आधा लेटे हुए दिखाया गया है और साथ में पोस्टर पर व्यंग्य करते हुए कांग्रेस का चुनवी नारा ‘अब होगा न्याय’ लिखा है

बीजेपी प्रवक्ता तेजिंदर बग्गा ने लगवाए साध्वी प्रज्ञा के पोस्टर, लिखा- अब होगा न्याय


कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणापत्र में बीजेपी पर हमला बोलने के लिए न्यूनतम आय गारंटी स्कीम (न्याय) का ऐलान किया था। अपनी इसी महत्वपूर्ण घोषणा के जरिए राहुल गांधी केंद्र की सत्ता में वापस आने का सपना देख रहे हैं। कांग्रेस ने इस योजना को ‘न्याय’ (न्यूनतम आय योजना) नाम दिया। साथ ही ‘अब होगा न्याय’ कैंपेन शुरू किया था। अब बीजेपी ने कांग्रेस की इसी टैगलाइन का इस्तेमाल कर उस पर हमला बोला है।

दरअसल, बीजेपी नेता तजिंदर सिंह बग्गा ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में साध्वी प्रज्ञा के फोटो वाले बैनर-पोस्टर लगाए हैं। इन पोस्टरों पर साध्वी प्रज्ञा की फोटो के साथ-साथ कांग्रेस के कैंपेन की टैग लाइन ‘अब होगा न्याय’ लिखी है। राजधानी दिल्ली के पटेल चौक, मंडी हाउस, आईटीओ और मयूर विहार जैसे व्यस्त इलाकों में ये पोस्टर लगाए गए हैं। इसके अलावा दिल्ली बीजेपी दफ्तर के बाहर भी ये पोस्टर लगाए गए हैं।

बता दें कि साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को केंद्र में सत्ताधारी पार्टी बीजेपी ने भोपाल से अपना उम्मीदवार बनाया है। उनके उम्मीदवारी की घोषणा होते ही ‘आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता’ कहने वाले महानुभावों ने एक बार फिर से ‘हिंदू आतंकवाद’ और ‘हिंदू आतंकवादी’ का राग छेड़ दिया है। 18 अप्रैल को कांग्रेस समर्थक तहसीन पूनावाला ने प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत की थी और दरख्वास्त किया था कि उनके चुनाव लड़ने पर रोक लगाई जाए, जिसे आयोग ने यह कहते हुए खारिज कर दिया कि ठाकुर के खिलाफ कोई भी आरोप सिध्द नहीं हुए हैं और इस प्रकार वो दोषी नहीं हैं। सिर्फ किसी मामले में दोषी होने पर ही चुनाव लड़ने पर रोक लगाने का प्रावधान है।

मालूम हो कि प्रज्ञा ठाकुर मुंबई के मालेगांव ब्लास्ट में आरोपी हैं और अभी जमानत पर बाहर हैं। गुरुवार (18 अप्रैल) को उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपने साथ 9 साल तक जेल में हुई अमानवीय अत्याचारों को साझा किया। इस दौरान वो अपनी पीड़ाओं को याद करते हुए रो पड़ीं। गौरतलब है कि प्रज्ञा ठाकुर और कर्नल श्रीकांत पुरोहित को जबर्दस्ती आतंकी हमले का आरोपी बनाने के बाद कांग्रेस ने पूरे देश में ‘हिंदू’ और ‘भगवा’ आतंकवाद की संज्ञा देकर पूरे विश्व में हिंदूओं और भगवा को बदनाम करने का षड्यंत्र रचा था। प्रज्ञा ठाकुर को अप्रैल 2018 में जमानत देते हुए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की विशेष अदालत ने कहा था कि ठाकुर के खिलाफ लगे आरोपों की पुष्टि एजेंसी नहीं कर पाई है। अदालत ने यह भी कहा था कि महाराष्ट्र एटीएस और एनआईए के चार्जशीट में भी विरोधाभास है, जिसमे एनआईए ने उन्हें आतंकी मानने से इंकार कर दिया है, जबकि एटीएस ने आतंकी माना है।





Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *