Menu

नोएडा:- फरहत अली और असीमन ने कैब लूटने के उद्देश्य से कर दी कैब ड्राइवर की हत्या

नोएडा:- फरहत अली और असीमन ने कैब लूटने के उद्देश्य से कर दी कैब ड्राइवर की हत्या
 दिल्ली में एक कैब ड्राइवर के लिए देर रात में कपल पैसेंजर को ले जाना उसकी जान पर भारी पड़ गया। लूट-पाट के इरादे के बैठे कपल ने न सिर्फ सामान और कार लूटी, बल्कि ड्राइवर का भी मर्डर कर उसी लाश टुकड़े-टुकड़े कर ठिकाने लगा दिए। इस ब्लाइंड मर्डर तक पुलिस तब पहुंच पाई, जब कैब ड्राइवर की पत्नी ने दूसरे दिन मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई। इसके बाद पुलिस कार के जीपीएस और सीसीटीवी के जरिए आरोपियों तक पहुंची और मामले का खुलासा किया।

कैब ड्राइवर को किया किडनैप

- पुलिस ने बताया, 28 जनवरी को आरोपियों ने ऐप बेस्ड कैब बुक की, जिसे शकूरपुर के रहने वाले राम गोविंद चला रहे थे। आरोपी कैब को गाजियाबाद लेकर गए और वहां ड्राइवर की हत्या कर दी।

- ड्राइवर को पहले नशीली चाय पिलाई गई थी और जब वो बेहोशी की हालत में पहुंच गया तो गला दबाकर उसकी हत्या कर दी गई। मर्डर के बाद आरोपियों ने गाजियाबाद के किराए के मकान में शव को छोड़ दिया।

- इसके बाद एक महिला समेत दो आरोपियों ने मिलकर कार को मुरादाबाद में ठिकाने पर लगाया। फिर लौटकर ड्राइवर राम गोविंद की लाश के टुकड़े-टुकड़े कर डाले, ताकि उसे ठिकाने लगाया जा सके।

- इसके बाद आरोपियों ने दो बैग में डेडबॉडी के टुकड़े भरे और उन्हें ठिकाने लगाने के लिए स्कूल से निकले। आरोपियों ने इन बैग्स को ड्रेन में फेंक दिया, जिसके कुछ पार्ट ग्रेटर नोएडा में भी मिले।

आरोपियों तक ऐसे पहुंची पुलिस

- ड्राइवर के घर न लौटने पर दूसरे दिन उसकी वाइफ ने पुलिस में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस को जब पूरा मामला पता चला तो उसे आशंका हो गई कि राम गोविंद को कार के साथ कि़डनैप किया गया होगा।

- इसके बाद पुलिस ने कैब बुकिंग की जानकारी ली और ड्राइवर के मोबाइल की लास्ट लोकेशन ट्रेस की। पुलिस ने आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज चेक की, जिसमें आरोपी दिखाई भी दिए।

- इसके बाद पुलिस टेक्निकल सर्विलांस की मदद से रविवार को आरोपियों तक पहुंच गई। डीसीपी विजयंत आर्या ने बताया कि अरेस्ट किए गए आरोपी की पहचान यूपी के फरहत अली और सीमा शर्मा के तौर पर हुई है।

- पुलिस ने आरोपियों से लूटा हुआ मोबाइल, हत्या में इस्तेमाल किए गए कटर और उस्तरा जब्त कर लिए हैं। इसके अलावा दो बैग भी पुलिस ने बरामद किए हैं, जिनमें डेडबॉडी के टुकड़े रखे गए थे।

आरोपियों का काम-धंधा हो गया था चौपट

- पुलिस ने बताया कि आरोपी फरहत पहले फोटो स्टूडियो में काम करता था और इसके बाद उसने फर्जी डॉक्टर बनकर महरौली-गुड़गांव रोड पर दुकान खोल ली थी। वहीं सीमा शर्मा अपने पति से अलग गाजियाबाद में रह रही थी। वो फरहत के कॉन्टैक्ट में आई और दोनों ने शादी कर ली थी। बताया जा रहा है कि कई महीनों से दोनों के काम धंधे चौपट हो चुके थे।

Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *