Menu

आलिया भट्ट की माँ बोलीं- भारत नहीं पाकिस्तान में रहना चाहती हूँ, वहां ज्यादा सुकून मिलता हैं

आलिया भट्ट की माँ बोलीं- भारत नहीं पाकिस्तान में रहना चाहती हूँ, वहां ज्यादा सुकून मिलता हैं
: इंडस्ट्री की क्यूटेस्ट गर्ल आलिया भट्ट बॉलीवुड में जाना माना नाम हैं. आलिया की माँ भी किसी के पहचान की मोहताज नहीं हैं, इन्होंने ‘सर’, ‘सड़क’ और ‘राजी’ जैसी धमाकेदार फिल्मों में धुँवाधार का प्रदर्शन किया है. सोनी राजदान ऐसी महिला एक्ट्रेस हैं जो किसी भी मुद्दे पर किसी की भी परवाह किये बिना अपनी बात रखने में सक्षम रहती हैं. सोनी की जल्द ही ‘नो फादर्स इन कश्मीर’ फिल्म आने वाली है। इस फिल्म के प्रमोशन के दौरान सोनी राजदान ने ऐसी बात कह दी जिससे उनका बयान चर्चा में आ गया।

सोनी राजदान ने ये भी कहा कि- ‘जब भी मैं कुछ बोलती हूं तो ट्रोल का हिस्सा बन जाती हूं। मुझे देशद्रोही कहा जाता है। कभी-कभी सोचती हूं कि मुझे पाकिस्तान ही चले जाना चाहिए। वहां पर ज्यादा खुश रहूंगी। वहां खाना भी बहुत अच्छा है। आप लोगों ने ही ट्रोल कर कहा कि पाकिस्तान जाओ, इसलिए पाकिस्तान जाऊंगी।’ 

सोनी ने आगे फिर कहा की- ‘मैं अपनी मर्जी से पाकिस्तान छुट्टियां मनाने जाऊंगी।’ इस इंटरव्यू में सोनी ने यह भी कहा कि उन्हें ट्रोलर्स के पाकिस्तान भेजने वाली बात से ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। इसके साथ ही सोनी राजदान ने देश के मौजूदा हालात पर भी बेबाकी से अपनी राय रखी। सोनी ने कहा- ‘मैं भारत के पूरी तरह हिंदू देश बनने के खिलाफ हूं। पाकिस्तान में मिला जुला कल्चर नहीं है, इसी वजह वह बेहतर देश नहीं बन सका।’ 

सोनी राजदान की फिल्म ‘नो फादर्स इन कश्मीर’ 5 अप्रैल को रिलीज हो रही है। इस फिल्म में सोनी राजदान के अलावा इअश्विन कुमार, अंशुमान झा और कुलभूषण खरबंदा सहित कई बड़े कलाकार हैं। इस फिल्म में नूर की कहानी दिखाई गई है। नूर एक एक ब्रिटिश भारतीय है जो अपने लापता पिता का पता लगाने के लिए कश्मीर वापस आता है। वहां पर वह माजिद से दोस्ती करता है। फिल्म में दिखाया जाएगा कि माजिद किस तरह से उसके पिता को खोजने के लिए मदद करता है।


फिल्म की एक टैगलाइन है ‘हर कोई सोचता है कि वो कश्मीर को जानता हैं’, फिल्म कश्मीरी लोगों की वास्तविकताओं और उनकी असली कहानियों को दिखाने का प्रयास करती है। इस फिल्म के डायरेक्टर अश्विन कुमार पहले दो राष्ट्रीय पुरस्कार भी जीते चुके हैं। फिल्म ‘नो फादर्स इन कश्मीर’ को 8 महीने बाद यूए सर्टिफिकेट दिया गया है। सेंसर सर्टिफिकेट पाने के लिए जुलाई 2018 में पहली बार फिल्म को फाइल किया गया था। अपनी फिल्म को इंसाफ दिलाने के लिए निर्माताओं और कलाकारों को 8 महीने, छह स्क्रीनिंग्स और सात सुनवाइयों तक इंतजार करना पड़ा। फिलहाल यह फिल्म रिलीज के लिए अब तैयार है।


Leave a Reply
Your email address will not be published. Required fields are marked *
Cancel reply
Leave a Comment
Your email address will not be published. Required fields are marked *